TCS-Tata Consultancy Services

टीसीएस 100 अरब डॉलर का बाजार कवर करने वाली पहली भारतीय आईटी कंपनी बन गई है।

भारत का सबसे बड़ा आईटी विशालकाय 1 9 68 में स्थापित किया गया था और यह टाटा समूह की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है, और जेआरडी टाटा कंपनी का पहला अध्यक्ष था। टीसीएस टाटा संस के लिए लगभग 70% राजस्व उत्पन्न करता है, और इस क्षेत्र के वैश्विक नेताओं में से एक है।

इसे फोर्ब्स में दुनिया की सबसे नवीन कंपनी में शीर्ष स्थान पर रखा गया था। फोर्ब्स इंडिया 500 सूची में यह 10 वें स्थान पर है। टीसीएस द्वारा कई संयुक्त अनुसंधान और विकास परियोजनाएं भी की जा रही हैं, जो नवीनतम एसएटीएस के साथ साझेदारी करके स्मार्ट घड़ी का विकास कर रहा है। टीसीएस के करीब 400,000+ कर्मचारी हैं, जो दुनिया में सबसे ज्यादा है।पिछले दशक में कंपनी लगातार भारत में सबसे बड़ी आईटी भर्तीकर्ता है। इसने सबसे बड़ा कॉर्पोरेट लर्निंग सेंटर स्थापित किया है जो केरल के त्रिवेंद्रम में 50,000 स्नातकों को प्रशिक्षित कर सकता है।टीसीएस और इसकी 67 सहायक कंपनियां सरकारी निकायों और निजी उद्यमों दोनों के लिए प्रौद्योगिकी से संबंधित उत्पादों और सेवाओं की विस्तृत श्रृंखला भी प्रदान करती हैं। कंपनी के कर्मचारियों के करीब 400,000 कर्मचारी कंपनी के लिए ड्राइव का निरंतर स्रोत रहे हैं। इसमें 46 देशों में 28 9 कार्यालय और 21 देशों में 147 डिलीवरी केंद्र हैं। इसमें तीन देशों में 1 9 नवाचार प्रयोगशालाएं हैं और आईआईटी, स्टैनफोर्ड, एमआईटी, सीएमयू इत्यादि जैसे प्रमुख संस्थानों के साथ साझेदारी है। पिछले चार तिमाहियों में कंपनी का कुल राजस्व 95,192 करोड़ रुपये है

Powered by Blogger.